Monday, July 4, 2022
HomeAyurveda TreatmentCRP test in hindi - सीआरपी टेस्ट क्या और क्यों होता है?

CRP test in hindi – सीआरपी टेस्ट क्या और क्यों होता है?

CRP test in hindi यानिकी सी रिएक्टिव प्रोटीन इसके बिषय में covid से पहले शायद ही इतना ज्यादा आपको सुने को मिला होगा जितना की covid के बाद सुने को मिल रहा हे क्योकि जिन व्यक्तियों को covid हुआ हे डॉक्टर ने उन लोगो को CRP test कराने को कहा हे कोरोना मरीजो को CT scan से लेकर CRP test कराने को कहा गया यह सभी जाँच शरीर में इन्फेक्शन कहा तक फेल गया हे इसकी जानकारी के लिए कराई जाती हे crp test भी एक एसी ही खूंन की जाँच हे जो की शरीर में इन्फेक्शन के लिए कराई जाती हे जिसे पाता चलता हे की शरीर में इन्फेक्शन कहा हुआ ह कितना हुआ हे इन सभी सबलो के जबाब पाने के लिए डॉक्टर इस जाँच को कराते है।

CRP क्या है (What is CRP)

CRP एक ब्लड की जाँच हे जिसे पाता चलता हे की शरीर में इन्फेक्शन कितना और कहा कहा तक फेला है। सी रिएक्टिव प्रोटीन एक तरह का प्रोटीन होता है। जो शरीर में किसी इंफ्लामेटरी डिजीज या कंडीशन में लिवर तब बनाता है।जब इंफ्लामेशन होने पर crp बढ़ जाता है। crp के लेवल की जाँच ब्लड टेस्ट करके ही कि जाती है।

सीआरपी टेस्ट क्या है (What is crp test)

  • सीआरपी टेस्ट को सी-रिएक्टिव प्रोटीन टेस्ट कहा जाता है यह एक तरह का Blood test होता है जिसके दुबारा पता लगाया जाता है की शरीर में इन्फेक्शन कितना और कहा – कहा तक फेला है जो लोग कोरोना से संक्रमित हुए हे उन व्यक्तियों की ऊतकों की क्षति आदि का पाता चलता है। अन्य कई लोगो में भी यह जाँच कराई जाती है। जिसे crp लेवल का पाता चलता है।
  • सीआरपी वैल्यू किन बीमारियों में बढ़ती है (In what diseases does the CRP value increase?)
  • डॉ. शैली तोमर ने बताया कि सीआरपी वैल्यू निम्न बीमारियों में बढ़ती है।
  • इंफेक्टिव कंडिशन्स जैसे
  • मोडरेट से गंभीर कोविड मरीजों में
  • ट्यूबरक्लोसिस (टीबी)
  • निमोनिया
  • फंगल इंफेक्शन या क्रोनिक कंडीशन्स जैसे रूमेटी गठिया
  • हृदय रोग में
  • ऑटोइम्युन कंडीशन्स जैसे इरिटेबल बाउल सिंड्रोम
  • कैंसर
  • जो लोग स्मोक करते हैं और एल्कोहल लेते हैं उनमें भी सीआरपी बढ़ता है।

सीआरपी के लक्षण (Symptoms of CRP)

बढ़ते प्रोटीन के कारण ऊतकों में अत्यधिक खिचाब होना तथा हाथो पेरो में लगातार दर्द का बने रहना शरीर में अकडन होना कोरोना से ग्रसित लोगो में सीआरपी का बढना ये कुछ लक्षण crp के हो सकते है।

स्वस्थ व्यक्ति का सीआरपी लेवल कितना होता है। (What is the CRP level of a healthy person?)

सामान्य लोगों में सीआरपी का लेवल 1mg/L से कम होना चाहिए। लेकिन हर व्यक्ति की परेशानी पर यह निर्भर करता है।

CRP कम करने के घरेलू उपाय (Home Remedies to Lower CRP)

सीआरपी कम करने के कई अलग – अलग प्रकार के घरेलू उपाय है। जिनके उपचार करने से सीआरपी लेवल को कम किया जा सकता हे

व्यायाम

व्ययाम करके भी crp लेवल को कम किया जा सकता है। रोज प्रतिदिन 30 मिनट व्ययाम करने से शरीर से पसीना बहार निकलता हे जिसे शरीर की कोशिकाओ की सूजन कम होती हे और सीआरपी लेवल कम होता है।

हरी सब्जियों का सेवन (eating green vegetables)

https://healthbanay.com/home-remedies-for-crp/

हरी पत्तेदार सब्जियों का सेवन करने से सी प्रोटीन लेवल को कम किया जा सकता है। हरी सब्जियों में जसे टमाटर , तोरी,प्याज आदि

हल्दी से करे CRP के लक्षणों का उपचार (Treat the symptoms of CRP with turmeric)

https://healthbanay.com/home-remedies-for-crp/

हल्दी एक एंटी बायोटिक प्रव्रत्ति गुण मोजूद होते हे जिनसे शरीर में हुए इन्फेक्शन से उत्पन सूजन को कम किया जा सकता है। हल्दी का सेवन करने का तरीका बहुत आसान हे एक चम्मच हल्दी को एक कफ दूध में मिलाकर सेवन करने से हड्डिया मजबूत होती है। और हड्डियों का संक्रमण खत्म होता है।

मेथी से करे  CRP लेवल को कम (Reduce CRP level with Fenugreek)

https://healthbanay.com/home-remedies-for-crp/

मेथी से शरीरी के किसी भी संक्रमण को खत्म किया जा सकता हे मेथी शरीरी की रोग – प्रतिरोधक  क्षमता (Immunity power) को बढाती हे एक चम्मच मेथी के एक गिलास गर्म पानी में तब तक उबाले जब पानी आधा गिलास रह जाए तब उसको छान कर पीले एसा 10 -12 दिन तक करे

नीबू के सेवन से करे CRP का उपचार (CRP treatment with lemon)

https://healthbanay.com/home-remedies-for-crp/

 

गर्म पानी में रोज सुबह आधा नीबू आधे कफ पानी में पीने से crp लेवल कम होता हे और शरीर के अन्य कई संक्रमणों में भी नीबू के सेवन से लाभ मिलता है।

अर्जुन की छाल से CRP के उपचार (Treatment of CRP with Arjuna Bark)

अर्जुन की छाल के सेवन से भी सीआरपी लेवल को कम किया जा सकता हे और बुखार को कम किया जा सकता है। शरीर में उत्पन कमजोरी दर्द जेसी परेशनियो से छुटकर पाने के लिए अर्जुन की छाल और दाल चीनी को एक गिलाश पानी में पकाकर काढ़ा बना ले जब पानी एक कफ बच जाए तब उसे पीले एस उपचार को करने से शरीर में दर्द जेसे समस्यों के छुटकारा मिलता है।

डॉक्टर से कब सम्पर्क करें? (When to Contact a Doctor?)

ऊपर ईएसआर का उपचार करने के लिए अनेक उपाय बताए गए हैं। इसके बाद भी अगर आपके शरीर में दर्द और सूजन ज्यादा है, और आपको बुखार एक हफ्ते से ज्यादा हो रहा है तो आपको तुरन्त डॉक्टर से सम्पर्क करना चाहिए।

 

Health Banay
On HealthBanay, you get information related to health Ayurvedic Remedies Home Remedies Homeopathy Treatment

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Recent Post