Monday, July 4, 2022
HomeAyurveda Treatmentल्यूकोरिया के लक्षण कारण और घरेलू उपचार | Leukorrhea: Symptoms, Causes and...

ल्यूकोरिया के लक्षण कारण और घरेलू उपचार | Leukorrhea: Symptoms, Causes and Home Remedies

ल्यूकोरिया (Likoria) बिमारी महिलाओ में होने बाली एक आम बिमारी हे कई महिलाओ को जब लिकोरिया जेसी बिमारी होती हे तो बहुत महिलाए अपने एस बिमारी को छुपाती हे ल्यूकोरिया की बिमारी को छुपाने की इस हरकत के चलते यह बिमारी बढती चली जाती हे likoria की बिमारी को छुपाने की वजाय इसके घरेलू उपचार करके लिकोरिया की विमारी को ख़त्म किए जा सकता हे लेकिन ध्यान रखे कोई भी उपचार करने से पहले आपको रोग तथा रोग में उपचार की सम्पूर्ण जानकारी होना आवश्यक क्यों की अधूरी जानकारी हमेशा हनी हे पहुचती हे निचे likoria के विषय में सम्पूर्ण जानकरी तथा लिकोरिया रोग के उपचार बताए गय हे

Table of Contents

लिकोरिया बिमारी क्या होती हे  (What is Leucorrhea Disease)

लिकोरिया महिलाओ में होने बाली सर्वाधिक बिमारी में से एक हे हिंदी में लिकोरिया (likoria) को श्वेत प्रदर कहा गया हे यह पीले योनी से बहते प्रदर के रूप में जाना जाता हे इसमे गाढे सफ़ेद रंग का चिपचिपा पानी रिश्ता हे लिकोरिया का रोग अलग अलग कारणों से हो सकता हे जिसमे योनी में इन्फेक्शन के कारण या ग्राभाब्स्था के दोरान लिकोरिया (leucorrhea) रोग हो सकता हे

ल्यूकोरिया का रोग कितने समय तक रहता हे (How long does the disease of leucorrhoea last?)

लिकोरिया का रोग कुछ दिनों से दो से तीन सप्ताह तक रह सकता हे ज्यादा तर मामलो में लिकोरिया (likoria) की बिमारी में घबराने की कोई बात नहीं हे जब तक इसमे जलन तथा खुजली व दुर्गन्ध न आने लगे सफ़ेद पानी की सम्स्या इन्फेक्शन (infection) पेट में गेस के कारण बढ़ सकती हे जिसके कारण सफ़ेद पानी में दुर्गन्ध पिला पन या खुजली हो सकती हे लेकिन इसमे घबराने की कोई बात नहीं हे कुछ घरेलू उपचारों को करके आप सफ़ेद पानी से छुटकारा पाया जा सक्ता हे

अब नही रहेगी हाई ब्लड प्रेशर की कोई परेशानी | Home Remedies for high blood pressure

लिकोरिया क्यों होता हे (Why does leucorrhoea happen?)

योनि मार्ग से सफेद, चिपचिपा गाढ़ा स्राव होना आज मध्य उम्र की महिलाओं की एक सामान्य समस्या हो गई है। लिकोरिया (likoria) होने के कई अलग अलग कारण हे गर्भाबस्था के दोरान ये कोई इतनी गम्भीर रोग नही हे लेकिन इसका सही समय पर उपचार अवश्य करना चाहिए बरना बिमारी की अवस्था गम्भीर होती जाती हे जब स्राव पिला या नीला व दुर्गन्ध युक्त हो जाए तब स्तिथि सोचने गभीर हो सकती हे

सफेद पानी जाने से क्या नुकसान होता हे (White discharge reason)

ल्यूकोरिया

लिकोरिया की बिमारी यदि लंबे समय से चल रहे हे तो इसके फाफी नुकसान हो सकते हे जिसमे कमजोरी बने रहना कम करने को मन नहीं करना योनी में इन्फेक्शन का बढ़ते चले जाना अन्य अलग अलग नुकसान हो सकते हे इन सभी नुकसान से बचने के लिए सफ़ेद पानी के रोग को सुरुबात में हे कुछ घरेलू उपचारों के प्रयोग से रोग जा सकता हे और इसे पूर्ण रूप से ठिक किया जा सकता हे निचे

जोड़ो के दर्द का घरेलू उपचार | Joint Pain Home Remedies

लिकोरिया के रोग से छुटकारा पाने के घरेलू उपचार 

लिकोरिया कितने प्रकार का होता हे (Leucorrhea Types in Hindi)

लिकोरिया दो प्रकार का होता हे

स्वभाविक योनिस्राव
अस्वभाविक योनिस्राव

स्वभाविक ल्यूकोरिया क्या होता हे (What is natural leucorrhoea)

मासिक चक्र के समय  योनि से पानी जैसा बहने वाला दुर्गन्धरहित चिपचिपा तथा  पतला और सामान्य माना जाता है। महिलाओं में अण्डोत्सर्ग की प्रकिर्या के दोरान यह  बढ़ जाता है। यह महिलाओ के शरीर की एक सामान्य प्रक्रिया है। इस परिस्थिति में महिलाओ को कोई उपचार की जरूरत नहीं हती हे  केवल उचित खान -पान का ध्यान रखना चाहिए

अस्वभाविक योनिस्राव (Abnormal vaginal discharge)

एसा तब होता हे जब योनी में कोई इन्फेक्शन के कारण सफ़ेद पानी पीला चिपचिपा व दुर्गन्ध युक्त हो जाए

लिकोरिया के क्या लक्षण होते हे (What are the symptoms of leucorrhoea)

ल्यूकोरिया की पहचान इन लक्षणों को ध्यान में रखते की जा सकती हे

  • योनिमार्ग में तीव्र खुजली एवं चुनचुनाहट होना।
  • कमर में दर्द बना रहना।
  • कमजोरी महसूस होना एवं चक्कर आना।
  • बार-बार पेशाब आना और पेट में भारीपन बना रहना।
  • भूख ना लगना एवं जी मिचलाना।
  • आखों के नीचे काले घेरों का पड़ना।
  • थोड़ा-सा मेहनत करने पर भी आंखों के सामने अंधेरा छा जाना एवं कभी-कभी चक्कर आना।
  • पिंडलियों में खिंचाव एवं शरीर भारी रहना।
  • चिड़चिड़ापन रहना।

लिकोरिया के घरेलू उपचार (Home remedies for licorice)

शुरुबाती अबस्था में लिकोरिया की बिमारी को कुछ घरेलू उपचार करके ख़त्म किया जा सकती हे बहुत एसे घरेलू उपाय हे जिनका उपयोग सफेद पानी का रामवाण इलाज़ हे जो की निचे बताए गए हे

आंवले का उपयोग करके लिकोरिया के उपचार (Treatment of leucorrhoea using gooseberry) 

ल्यूकोरिया

अंबाला बसे तो कई अन्य रोगों में भी उपयोग किया जाता हे लेकिन आंबले का उपयोग करके लिकोरिया (likoria) के रोग को खत्म किया जा सकता हे

आँखों के रोग लक्षण सावधानिया और घरेलू उपचार | Eye diseases and home remedies

आंबले को सुखाकर इसे पीसकर आंबले की चूर्ण बना ले इसे नियमित रूप से दो से तीन सप्ताह पानी के साथ सेबन करने से सफ़ेद पानी लिकोरिया की बिमारी जड़ से खत्म हो जायगी
कच्चे आंबले को लेकर उसमे किसी नुकीली चीज दुवारा छेद करके उन्हें चुने के पानी में एक घंटा रखने के पचात आन्ब्लो को चीनी की चासनी में मुरबा बना लेगे एक आंबला रोज एक गिलास दुध के साथ ले एसा कुछ दिन नियमित रूप से सवेन करे

नीम के प्रयोग से लिकोरिया का उपचार (Treatment of leucorrhoea using neem)

ल्यूकोरिया

नीम की पत्तिया ले और उन्हें पीस ले दो से तीन दिन सेवन करने से सफेद पानी की परेशानी ठिक होना शूरू हो जायगी यदि आप नीम के पैय का सेबन नहीं कर सकते तो नीम की छाल लेकर उसे सुखाकर पाउडर बना ले रोज एक चमच पाउडर का प्रयोग करे इसे भी आपकी लिकोरिया की बिमारी सही हो जायगी

लिकोरिया रोग के कुछ अन्य घरेलू उपचार (Some other home remedies for leucorrhoea disease)

  • दालचीनी, सफेद जीरा, अशोक छाल और इलायची के बीज को पानी में उबाल कर काढ़ा बना लें। इसे ठण्डा होने के बाद छान लें। अब इस पानी से दिन में दो बार योनि को धोएं।
  • अपने आहार में दही का इस्तेमाल करें। दही में रोगाणुओं से लड़ने की क्षमता होती है, जो शरीर में संक्रमण को कम करती है।
  • गुलाब के पत्तों को पीस कर दिन में दो बार एक चम्मच दूध के साथ लें।
  • सफेद मूसली के चूर्ण में इसबगोल मिलाकर दूध के साथ सेवन करें।
  • नियमित रूप से गाजर, मूली एवं चुकंदर के रस का सेवन करें।

लिकरिया के दोरान आपका खान पान (Your food intake during likoria)

  • लिक्रिया रोग के समय आपका खान – पान केस होना चाहिए
  • ज्यादा मिर्च नमक तथा मसालों का प्रयोग नहीं करना चाहिए
  • ज्यादा से ज्यादा फलो का उपयोग करे
  • जंक फूड एवं बासी भोजन का नहीं खाना चाहिए।
  • अधिकतम सव्जियो का उपयोग करे

लिकोरिया के समय डॉक्टर से सम्पर्क कब करे (When to contact a doctor during leucorrhoea)

यदि योनि से लंबे समय तक स्राव होता रहे, तथा बहुत अधिक खुजलाहट एवं जलन होती हो।
स्राव का रंग पीला, हल्का लाल या हल्का नीला हो।
अधिक चिपचिपा एवं दुर्गन्धयुक्त हो तो यह इन्फेक्शन को दर्शाता है। ऐसे में महिला में कमजोरी एवं अन्य शारीरिक समस्याएं उत्पन्न हो जाती हैं।

 

Health Banay
On HealthBanay, you get information related to health Ayurvedic Remedies Home Remedies Homeopathy Treatment

1 COMMENT

  1. Im a huge fan already, man. Youve done a brilliant job making sure that people understand where youre coming from. And let me tell you, I get it. great stuff and I cant wait to check out more of your blogs. What youve got to say is important and needs to be check out.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Recent Post