Monday, July 4, 2022
HomeSpiritual Knowledgeआध्यात्मिक ज्ञान क्या है| - What is spiritual knowledge

आध्यात्मिक ज्ञान क्या है| – What is spiritual knowledge

मनुष्य के जीवन में आध्यात्मिकता का क्या महत्व है| – What is the importance of spirituality in human life?

आध्यत्मि ज्ञान बह ज्ञान हे जिसमे मनुष्य अपने जीवन को सांति से परी पूर्ण कर पता हैं। यदि आपका मन आपके बस में नही रहता आपका ध्यान भटकता रहता हैं। एसे में आप आध्यात्मिकता को अपना सकते हैं आध्यात्मिकता का मतलब ये बिल्कुल भी नही हे की आप वैराग्य हो जाओ यदि आपका मन आल्शय से भरा पड़ा हैं। आपका मन किसी भी काम में नही लगता तो केवल आध्यात्मिकता ही एक ऐसा रास्ता हैं। जिसे आप अपने मन को बस में कर सकते हो ये ही नही आध्यात्मिकता का मनुष्य के जीवन में एक बहुत बड़ा मह्त्ब हैं। जो किसी व्यक्ति के जीवन को दर्शाता हैं।

आध्यात्मिक विकास से मनुष्य को क्या मिलता हैं। – What do humans get from spiritual development?

कभी – कभी मनुष्य अपनी जीवन शेली से बहुत परेशान हो जाता हैं। जिसके कारण उसका जीवन अस्त – व्यस्त सा लगने लगता हैं उसका मन विचलित इस हद तक हो जाता हैं की कई बार उसे अपने जीवन से ही घिर्णना होने लगती हे उस व्यक्ति को लगने लगने लगता हे की उसका जीवन मानो किसी काम का न रहा हो कहे तो अपने जीवन से निराश हो जाता हे जब जीवन में निराशा का जन्म हो जाता हे तब हम अपने लक्ष्य से भटकने लगते हैं। एसे में आध्यात्म्कता से हमें मानशिक और मन दोनों प्रकार की शक्ति प्राप्त होती हैं। जो हमारे मन को शांत बनाती हैं। अब बात करते हे की आध्यात्मिक विकास से मनुष्य को क्या मिलता हैं। यदि किसी मनुष्य में आध्यात्मिक ज्ञान प्रवल होने लगता हैं। वह व्यक्ति सांसारिक माया मोह से दूर होने लगता हैं। उसे संसार की किसी भी वास्तु से प्रेम नही रहता वह केवल अपने में ही शांत रहता हैं। आध्यात्मिक व्यक्ति ज्यादा किसी से बोलना या ज्याता सोर पसंद नही करते उन्हें एकांत बहुत अच्छा लगता हैं।

अध्यात्म कैसे करें – How to do spirituality?

अध्यात्म का अर्थ किसी धर्म को मानना या मूर्ति पूजा करना नहीं है। बस आप अपने हृदय को निर्मल और स्वच्छ बनाइये, प्रत्येक जीव जंतु को प्रेम करिए। ईश्वर की बनाई प्रत्येक चीज से प्रेम करिए, बस यही अध्यात्म है।

आध्यात्मिक जीवन क्या है – What is spiritual life?

आध्यात्मिक शरीर के लिए जन्म, जरा और मृत्यु एक प्राकृतिक क्रिया है, जो ब्रह्मांड के लिए या विश्व के लिए नियति है। आध्यात्मिक शक्ति प्राप्त व्यक्ति ईश्वरीय शक्ति संपन्न बन जाता है। आध्यात्मिक जीवन एक ऐसी नाव है जो ईश्वरीय ज्ञान से भरी होती है। यह नाव जीवन के उत्थान एवं पतन के थपेड़ों से हिलेगी-डोलेगी, पर डूबेगी नहीं।

अध्यात्म कितने प्रकार के होते हैं -How many types of spirituality are there?

आध्यात्मिकता का कोई प्रकार नहीं होता है, वो रूप, रंग और आकार प्रकार से मुक्त है, वो कोई वस्तु नहीं है कोई ऐसी चीज़ नहीं है जिसके बारे मे आप कोई परिभाषा गढ़ सकें।

अध्यात्म प्रसाद किसका फल है – Whose fruit is spiritual offering?

साधक की जो बुद्धि में योगाभ्यास से पूर्व जो कुछ भी अशुद्धि थी उसका शुद्धिकरण हो जाता है जिससे उसकी बुद्धि में सत्त्व का प्रकाश होने से एक स्वच्छ एवं प्रवाहपूर्ण स्थिति निर्मित होती है जिसे योग की भाषा में अध्यात्म प्रसाद कहते हैं।

आध्यात्मिक मनुष्य के दो पक्ष कौन से हैं – what are the two sides of a spiritual man

प्रत्येक वस्तु के २ पहलू होते हैं — एक उजला और दूसरा अंधेरा । उजला पक्ष उस वस्तु के गुणों को बतलाता है तो अंधेरा पक्ष उसके दोषों को प्रकट करता है । अध्यात्म का उजला पक्ष है सकारात्मक चिंतन अर्थात् पोजिटिव थिंकिंग

भारतीय चिंतन धारा में धर्म और अध्यात्म क्यों महत्वपूर्ण है – Why religion and spirituality are important in Indian thought stream

भारतीय धर्मअध्यात्म एव चिंतन-पद्धति की अपनी मौलिक विशेषताएं हैं। यह समस्त मानव जाति का मार्गदर्शन करती है। जीवन के उद्दात पक्षों को रेखांकित करती हुई यह हमारे जीवन की विशेषताओं में सकारात्मक पक्षो को उभारकर, नैराश्य को समाप्त करती है।  मनुष्य जीवन के सतत प्रवाह में धर्म एक लाभकारी अनुगूंज है।

अध्यात्म और धर्म में क्या अंतर है – What is the difference between spirituality and religion?

चूकि अध्यात्म हमें जीवन सत्य की ओर उन्मुख करता हैऔर धर्म भी ऐसे ही मानव निर्मित सिद्धांतों पर टिका होता है,जिसके व्यावहारिक पक्ष के द्वारा सैद्धातिक तालमेल स्थापित करने की चेष्टा की जाती है,और सामान्य जनमानस को अध्यात्म की ओर उन्मुख किया जाताहै, भ्रम उत्पन्न होने की प्रबल संभावना होती है।

  • भौतिक और आध्यात्मिक में क्या अंतर है?

आध्यात्मिकता स्व: के लाभ के साथ समाज को जोड़ती है, जबकि भौतिकता इंसान और समाज को तोड़ती है

आध्यात्मिक शिक्षा क्या है – What is spiritual education?

आध्यात्मिक शिक्षा का सम्बन्ध निराकार और आत्मा से है और धार्मिक शिक्षा का सम्बन्ध शरीर और समाज से है। धार्मिक-शिक्षा में कथा-कहानियाँ और जानकारी है जिसका सम्बन्ध साकार संसार से है और आध्यात्मिकशिक्षा किसी भी धर्म पर आधारित नहीं है। आध्यात्मिक का सम्बन्ध निराकार और अदृश्य संसार से हैं शारीरिक क्रियाओं पर निर्भर नहीं है।

  • आध्यात्मिक शक्ति का क्या अर्थ है

आध्यात्मिक यात्रा उन रूहानी मंडलों का अनुभव करना है, जो कि बुद्धि और मन से परे हैं और यह सब हमें रहस्यमय लगता है। अध्यात्म एक ऐसा विज्ञान है, जो हमारे जीवन में प्रेम, शांति, खुशी और विवेक की शक्ति प्रदान करता है। यह हमारे मानसिक जीवन और आंतरिक जीवन को समृद्ध बनाने के साथ-साथ, हमारे आपसी संबंधों को भी बेहतर बनाता है।

Health Banay
On HealthBanay, you get information related to health Ayurvedic Remedies Home Remedies Homeopathy Treatment

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Recent Post